DATA Listing

यदि लक्ष्य जिंदगी का निज सूख रहा ना होता (गीत)

Pages : 01
Tags : लक्ष्य | जिंदगी |
Author Name :
Data Source : करिष्ये वचनं तव
Publication/Year : युग निर्माण योजना विस्तार ट्रस्ट/2011
Read Also In : HINDI GUJARATI ENGLISH MARATHI
Content From Same Data Source
हर विपदा मैं मेरे बच्चों तुम साहस बल पाओगे (गीत)
नहा लो चाहे सारे तीर्थ धूम लो चाहे चारों धाम (गीत)
किए मंत्र जप माला फ़ेरी पूजन आथों याम का (गीत)
क्यों करता अभियान देह का यह माटी की ढेरी रे (गीत)
न तेरा है न मेरा है ये मालिक का है घर बंदे (गीत)
थोडी सीं सासें पाई है इनको नहीं गवाना है (गीत)
मालिक के सामने जब तेरा हिसाब होगा (गीत)
पाप पुण्य से भरा हुआ यह दुनिया का बाजार है (गीत)
बोया है पेड तूने जब यहां बबूल का (गीत)
बोया है पेड तूने जब यहां बबूल का (गीत)
दुःख के घनघोर बादल जब कभी घहराऎगे (गीत)
शाम अब घिरने लगी है आइए चिंतन करें (गीत)
आत्मनिरीक्शण कर लें हम ओरों का क्यों उपहास करें (गीत)
हम पथ पर आद्शो के हरदम चला करें (गीत)
तुमने आगन नही बुहारा कैसे आऎगे भगवान (गीत)
गवा दिया हमने जीवन मे धर्म और इमान (गीत)
हमे इश्वर मिलेगा यदि सरल मन हो हमारा (गीत)
मंदिर मंदिर शीश नवाया (गीत)
उसको न तुम गगन में जल थल में पा सकोगे (गीत)
मन क्यों गली गली भरमाए (गीत)
इश्वर की कामना करें क्यों तीरथ देवस्थान (गीत)
गिरजे की घंटिया यही कहतीं स्वर यही अजान का (गीत)
मन की सुन लो मन से बोलो पाओगे भगवान को (गीत)
कभी इस द्वार पर जाऊ कभी उस द्वार जाऊ मैं (गीत)
भिन्न चाहे इष्ट हो या भिन्न पूजा अर्चना (गीत)
सिर्फ़ सत्कर्म ही है सुहाता उन्हें (गीत)
सबको प्यार लुटाऎगें जो प्रभु का प्यार वही पाएगें (गीत)
शांत शीतल सरल मन करें चित में संतुलन हम करें (गीत)
हम आए हैं शरण तुम्हारी जगदंबे हमको यह वर दो (गीत)
हम नहीं ऊंचे पहाड़ों से डरेंगे (गीत)
उमदी है विश्व भर मैं विष की विशालधारा (गीत)
आंखें नम हो गई हमारी पीड़ा घुली हवाओं में (गीत)
जिस द्वैत का तुम्हें कल आभास हो रहा था (गीत)
मन मैला ही रहा अगर तो उजला तन बेकार है (गीत)
क्यों करता अभिमान देह का यह माटी की ढेरी रे (गीत)
सिर्फ़ स्त्कर्म ही है सुहाता उन्हें (गीत)
नवयुग की गीता के गायक शत शत तुम्हें प्रणाम है (गीत)
प्रभु आज तक जो करी साधना समर्पित सभी है (गीत)
रास्ता भूलकर हम कहा आ गए इस तपन से भरे अजनबी गाव में (ग
ओ धर्म की पताका फ़्हरो धरा गगन में (गीत)
मुझे चाहिए और कुछ भी न भगवन तुम्हारी शरण की मुझे कामन
ओ धर्म की पताका फ़्हरो धरा गगन में (गीत)
धन साधना क्या मांगू तुमसे कुछ भी हे जीवन धन देना (गीत)
प्रभो हमें सुसंस्कार दीजिए ऎसे (गीत)
हे विकल संसार अब अंगार से जलते नयन (गीत)
इतनी शक्ति हमें दो भगवन जन जन का मंगल कर पाऎ (गीत)
है तपोनिष्ठ हे वेद की मूर्ति (गीत)
आपने जो हमें शक्ति दी हे प्रभो (गीत)
वेदमूर्ति प्रभु हमें ऐसा विमल वरदान दो (गीत)
जन जन में अपनापन फ़ैलाकर देखो (गीत)
गुरुवर हमें तुम्हारा विश्वास हर प्रहर में (गीत)
श्रेष्ठता के वराण को हम निहारएंगे तुम्हें (गीत)
सुहानी स्रुष्ति प्राणो से अधिक प्यारी प्रभु को (गीत)
हे प्रभु ध्यान में तुम समाए हुए (गीत)
गुरुवर ऐसी शक्ति हमें दो सच्चे शिष्य कहांए हम (गीत)
हे नाथ मुझे अपना लो तुम (गीत)
हम गए हैं शरण तुम्हारी जगदंबे हमको यह वर दो (गीत)
पूज्य गुरुवर में समाहित शक्ति मा कर दो कृपा (गीत)
मां कृपा कर दो की संकलित हमारा मन बने (गीत)
आज कर दो कृपा मां तू वरदायिनी (गीत)
मां तो ऐसी कृपा हम पर कर दो छूट पाए ना आंचल तुम्हारा (गी
जगजननी दुख हरनी माता दुख संताप हरो (गीत)
ऐसी भक्ति भरो जगजननी (गीत)
बहे ना हम तेज धारों में मां आज वही शक्ति हमें दो (गीत)
अश्वमेध से उठी उर्जा विनय हम कर रहे (गीत)
जितना तुमने दिया न उतना सारा जग हमको दे पाया (गीत)
बचे जो जिंदगी के दिन तुम्हारे काम आएंगे (गीत)
गुरुवर की हीरक माला के हम भी हीरा एक बनेंगे (गीत)
भटक कर हर तरफ से आ गए अब तो शरण में हम (गीत)
काम जब तक तुम्हारा अधूरा पड़ा (गीत)
हमने करी प्रतिज्ञा हम गुरुवर का पथ अपनाएंगे (गीत)
जिसकी क्रांति गगन तक फैली हम मोती उस माला के (गीत)
भर दिया गुरुदेव ने युगतीर्थ का अमृत सरोवर (गीत)
पुण्य मिले हमको तो चारो ही धाम के (गीत
तुम्हारा हर निमिष का साथ हम कैसे भुलाए? (गीत)
गुरुवर हम संकल्प आज दोहराते हैं (गीत)
हम नहीं ऊंचे पहाड़ों से करेंगे (गीत)
तुम्हारे स्नेह की सौगंध है हमको जगजननी (गीत)
जब तक आती नहीं सहजता हर वाणी व्यवहार में (गीत)
अब तेरा दुख दर्द हदय का मा हमने पहचाना (गीत)
मां तुम्हारे स्नेह की छाया हमें मिलती रही तो (गीत)
मां हम है संतान तुम्हारी क्यों कपूत कहलायेंगे हम ? (गी
हमने पाय था आज मा तेरे मन की पीर की (गीत)
मां उमड़ती जब हदय में सजल सलिला स्नेह धारा (गीत)
तुम्हारा स्वर हमें हर पल सुनाई दे रहा माता (गीत)
राम नाम का अर्थ यही है काम करें श्रीराम का (गीत)
आपने जो अपेक्षा करी मातोश्री अब उसे पूर्ण करके दिखाए
रात हो कितनी भयंकर (गीत)
जननी शक्तिरूपा तुम्हारे लिए ही यहां हाथ हमने असंख्य
अगर मिल जाए मुझको पंख तो उड़कर चला आता (गीत)
मन ही रहा रहा अगर तो उजला तन बेकार है (गीत)
सावधान हो सुनो आज मा के प्रेरक आहानो को (गीत)
ले लिया संकल्प अब हम दीपक को ने (गीत)
श्रद्धा सहित जो आया गुरुदेव की शरण में (गीत)
गुरु ने थामी बाह की जीवन धन्य हुआ (गीत)
आपने जो अपेक्षा करी मातोश्री अब उसे पूर्ण करके दिखाए
तू केवल रखवाला तेरे साथ नहीं कुछ जाना रे (गीत)
तुमने क्या छू लिया हमारे मन प्राणों को (गीत)
आप क्या मिल गए भ्रम परे हो गए (गीत)
जिसे गुरु की पतित पावन शरण मिल जाएगी (गीत)
भरी भीड़ में एकाकी हम भटक रहे थे राहों पर (गीत)
धन्य है जिंदगी यह हमारी नाथ पाकर सहारा तुम्हारा (गीत)
शक्ति से जब से जुड़ा मन बस तभी से (गीत)
मावस में खिल गए हो तुम प्रात की तरह (गीत)
जबसे गुरु संग मिला ऐसी लो लागी रे (गीत)
चोला रंगे ना रंगे अब तो डूबा राम रंग मनवा (गीत)
भटक रहा है जन्म जन्म से हंस भूखा प्यासा रे (गीत)
उमदी है विश्व भर मैं इसकी की विशालधारा (गीत)
हे प्रभु चेतना से तुम्हारी विश्व अब चहचहाने लगा है (ग
दुख निराशा के समय जब कलेश ने बांधा हमें (गीत)
चेतना सर्वोच्च सत्ता की सहज ही (गीत)
हे गुरुदेव तुम्हारी वाणी बदल रही संसार तुम्हारा वंद
चाहे हो वृषभानु कुमारी या हो गवई गवाल रे (गीत)
गुरुवर तुमने दिया हमें उज्जवल भविष्य का नारा (गीत)
भगवान बसो मेरे मन में तुम यह मन देवालय हो जाए (गीत)
यदि लक्ष्य जिंदगी का निज सूख रहा ना होता (गीत)
तुम ही हर निमिष हो नयन के नीलय मैं (गीत)
हम न भूलेंगे कभी माता पिता के प्यार को (गीत)
संपूर्ण सृष्टि मेरा विधान मैं ही अदृश्य मैं दृश्यमान
तुम्हें गुरुदेव जब हम ठीक से पहचान पाएंगे (गीत)
पथ भूले मानव को तुम में आशा का दिनमान मिला (गीत)
जब जब किया असुरता ने संस्कृति पर कुटिल संहार से (गीत)
दुख दर्द दीनता को संसार से मिटाने (गीत)
सीख नहीं पाए चादर ओढ़ने का ढंग रे (गीत)
संस्कारों के तेज अश्व पर निर्भर हुआ सवार है (गीत)
अखिल विश्व उपवन प्रभु ने बनाया यह धरती का आंगन प्रभु न
शक्ति मां मैं निहित कर महाप्राण ने (गीत)
बहुत हुई सुराख नावों में मत जा तू मजधार रे (गीत)
देह त्याग कर तुम अनंत विस्तार हुए (गीत)
है उपासक वही व्यक्ति जिसकी सूक्ति स्नेह धारा नहीं है (
बादल तो व्याकुल है बरस बरस जाने को (गीत)
तुम बजाओगे जैसे बजेंगे हम (गीत)
तुम ही हो प्राण हम सबके हमारी चेतना हो तुम (गीत)
यह कंचन सी देह न म्रुगलोचन देखेंगे राम (गीत)
कोटि कोटि संतानों को तुम ममता में नहलाती थी (गीत)
जिस दीन चरित्र चिंतन अध्यात्म से जुडेगा (गीत)
कहीं भी तुम रहो वंशज मेरे संतान मेरी (गीत)
जीवंत है जगत में कण कण तुम्ही से भगवन (गीत)
यह समय न है विषाद का (गीत)
कर सकें प्रभु को समर्पण हम अगर ईश के अनुरुप हम हो जाऎग
कभी डगमगाने मत देना श्रद्धा और विश्वास तुम (गीत)
विश्व मे कोइ नियम पालन न होता यदि यहा सर्वोच्च सता ही
भले हो दूर पर मा के हदय के प्यार पाओगे (गीत)
आज मन की तपन दूर कर पाऎगी धर्म अध्यात्म की दिव्य अमराइ
आंखें नम हो गई हमारी पीड़ा दुली हवाओं में (गीत)
कल्मषों कषाया का आवरण हटा मन को निर्मल करती है उपासना
भर भर आए नयन हमारे भरा हदय तुम्हारा भी मन होगा (गीत)
किया न अंतर बरखा की बौछार ने (गीत)
ओ मेरी संतानों तुमको मेरा दुख बताना होगा (गीत)
नाव चिंतन की फ़शी मझधार में (गीत)
जिस का तुम्हें कल आभास हो रहा था (गीत)
हमारे मोह हमें पल भर न बच्चों तुम दुखी होना (गीत)
Disclaimer : The content in this website in form of books and/or literature is strictly for self, Society and Nation development as well as educational and informational purpose only to spread ‘Thought Revolution Movement’ Pt. Shriram Sharma Acharya (Founder of All World Gayatri Pariwar). Anyone who wishes to apply concepts and ideas contained in this website takes full responsibilities for their actions. Contents in this website is not intended to spread rumours or offend or hurt the sentiments of any religion, communities or individuals, or to bring disrepute to any person (living or dead). Articles, Books or any contents in this website must not be used for any commercial purpose without prior written permission of original owner “Vedmata Gayatri Trust, Shantikunj-Haridwar” www.awgp.org